Feed Item

हरतालिका तीज  कब मनाई जाती है और मुहूर्त क्या है? (Hartalika Teej Date and Muhurat)

हरितालिका तीज भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि के दिन मनाया जाता है. यह आमतौर पर अगस्त – सितम्बर के महीने में ही आती है. इसे गौरी तृतीया व्रत भी कहते है. यह इस वर्ष 1 सितम्बर 2019, दिन रविवार को मनाई जाएगी.

प्रातः काल हरितालिका पूजा मुहूर्त    8:27 से 08:34    7 मिनट

सांय काल हरितालिका पूजा मुहूर्त    06:39 – 8:56    2 घंटे 17 मिनट

हरतालिका तीज नियम (Hartalika Teej Rules) :

हरतालिका व्रत निर्जला किया जाता हैं, अर्थात पूरा दिन एवं रात अगले सूर्योदय तक जल ग्रहण नहीं किया जाता .

हरतालिका व्रत कुवांरी कन्या, सौभाग्यवती महिलाओं द्वारा किया जाता हैं .इसे विधवा महिलायें भी कर सकती हैं .

हरतालिका व्रत का नियम हैं कि इसे एक बार प्रारंभ करने के बाद छोड़ा नहीं जा सकता . इसे प्रति वर्ष पुरे नियमो के साथ किया जाता हैं.

हरतालिका व्रत के दिन रतजगा किया जाता हैं . पूरी रात महिलायें एकत्र होकर नाच गाना एवम भजन करती हैं . नये वस्त्र पहनकर पूरा श्रृंगार करती हैं .

हरतालिका व्रत जिस घर में भी होता हैं . वहाँ इस पूजा का खंडन नहीं किया जा सकता अर्थात इसे एक परम्परा के रूप में प्रति वर्ष किया जाता हैं .

सामान्यतह महिलायें यह हरतालिका पूजन मंदिर में करती हैं .

हरतालिका के व्रत से जुड़ी कई मान्यता हैं, जिनमे इस व्रत के दौरान जो सोती हैं, वो अगले जन्म में अजगर बनती हैं, जो दूध पीती हैं, वो सर्पिनी बनती हैं, जो व्रत नही करती वो विधवा बनती हैं, जो शक्कर खाती हैं मक्खी बनती हैं, जो मांस खाती शेरनी बनती हैं, जो जल पीती हैं वो मछली बनती हैं, जो अन्न खाती हैं वो सुअरी बनती हैं जो फल खाती है वो बकरी बनती हैं . इस प्रकार के कई मत सुनने को मिलते हैं .