Piyush Chaturvedi

  • 230

Looking forward to build community.

Relationships
Empty
Post to Feed
 
Location off

Diwali celebrations go on for five days and each day has its significance.

Dhanteras :

Diwali begins with the first day known as ‘Dhanteras’ or the worship of wealth. Goddess Lakshmi is worshipped on this day and there is a custom to purchase something precious. People clean and decorate their homes.

Naraka Chaturdashi or Choti Diwali :

The second day is Naraka Chaturdashi or Choti Diwali. People wake up early and apply aromatic oils on them before taking a bath. This is said to remove all sins and impurities. They wear new clothes, offer Puja and enjoy by lighting diyas and bursting few crackers.

Lakshmi Puja :

The third day is the main Diwali festival. Lakshmi Puja is performed on this day. Goddess Lakshmi is believed to enter homes and bless people with good fortune. Tiny oil diyas, candles and electric lights are placed around the house. Families exchange gifts and gather together to burst crackers.

Govardhan Puja or Padva :

The fourth day is Govardhan Puja or Padva. It is the day when Lord Krishna defeated Indra by lifting the huge Govardhan Mountain. People make a small hillock, usually of cow dung, symbolising Govardhan and worship it.

Bhai Dooj :

The fifth and last day is Bhai Dooj. On this day sisters invite their brothers for a lavish meal and perform a ‘tilak’ ceremony. Sisters pray for their brother’s long and happy life while the brothers give gifts to their sisters.

Dussehra or Vijayadashami is “The Day of Victory” that celebrates the victory of good over evil. It is the day when good vanquished evil.

Dussehra is also about the feminine goddess or the female divinity. Vijayadashami celebrates the Feminine Divinity which is the “Cosmic Energy” that protects and sustains life on the planet Earth.

Vijayadashami brings success and victory in our life. It is a cultural festival of great importance and significance for all Hindus.

Dussehra is the day that follows the nine days of Navratri.

After nine days of Navratri, the tenth and final day is Dussehra or Vijayadashami.

In fact, the nine days of Navratri represent the three fundamental qualities of human nature quantified as Tamas, Rajas, and Sattva.

Navratri festival’s first three days are of Tamas, where the Goddess takes an aggressive form, like Durga or Kali.

The next three days are related to Rajas, where the Goddess takes the gentle but materially oriented form, like Lakshmi.

The last three days are dedicated to Sattva, where the Goddess takes the form of Saraswati representing knowledge and enlightenment.

If you invest in any of the three “Gunas” (Tamas, Rajas, or Sattva), you will power your life in a certain way.

However, if you go beyond these qualities, you will be liberated from the cycle of life and death.

After Navratri, the tenth and final day is celebrated as Dussehra or Vijayadashami.

It means that you have been successful in conquering all these three qualities.

You saw and participated in every one of them, but you didn’t invest in any one of them.

You transcended and went beyond the usual three qualities. It essentially means that you won these three essential qualities of life.

This is what Dussehra or Vijayadashami is all about. Vijayadashami is the Day of Victory.

It reminds us that reverence and gratitude towards life lead to success and victory. Vijayadashami shows us that leading a life of reverence finally leads to success and well-being. It goes on to spread the message of the victory of good over evil.

As per the Hindu calendar, this spectacular festival of Vijayadashami is celebrated on the tenth day of Shukla Paksha in the month of Ashwin or Ashwayuja. This usually falls in September or October.

It culminates the nine-day fasting period of Sharad Navratri. The festival of Navratri continues for nine days and the tenth day is Dussehra.

Many of the Hindu festivals are related to the great epics of Ramayana or Mahabharata and Dussehra is one of the main ones.

According to Ramayana, there was a great battle between Lord Rama and the demon Ravana which lasted for ten days.

On the tenth day of the battle, Ravana was killed by Lord Rama which is celebrated as Dussehra. It personifies the triumph of virtue over immortality and spreads the message that good is always “Victorious.”

Ravana, who was king of Lanka, was a cruel and evil ruler. He was a demon by birth who abducted Mata Sita, the beloved wife of Lord Rama. Mata Sita was imprisoned in Lanka by Ravana who refused to release her in spite of repeated efforts by Lord Rama.

Finally, Lord Rama gathered a large army and went to Lanka to free Sita from the clutches of Ravana. He was assisted by Hanuman and Sugreeva who provided Him with a formidable and powerful army.

There was a fierce battle between Lord Rama and Ravana, and finally, Ravana was killed at the hands of Lord Rama.

This ended the evil rule of Ravana and Sita was freed from his bondage.

Hindu Festivals Calendar

Hindu calendar is also called as "Panchang" ("Panchanga" or "Panchangam") or "Panjika". it is the astrological calendar used by practicing Hindus. Many different variations of hindu calendar used in different parts of India. Some popular calendars are Kalnirnay, Biraja Panji, Bisuddhasiddhanta Panjika etc.Two popular types of astrological calculation methods are followed for calculating hindu calendar dates:

- Sūrya Siddhāntā (SS, Theory of the Sun) 

- Dṛk Siddhāntā (Empirical Theory)Hindu calendar is based on astrological calculations. It is a lunar calendar which is based on the positions of moon and sun. Five essentials elements of the hindu calendars are Tithi (Thithi), Nakshatra, Yoga, Karana, Paksha and Vaara. Hindu festivals are celebrated as per the Hindu Calendar or Panchang.

You can also share your knowledge, Let's share and spread awareness of the culture we are proud of and ensure it is passed on to the next generation well.

आपको ज्ञात होगा कि 8 -सितम्बर पर हिंदी दिवस 2019 के उपलक्ष्य में ब्रिगेड मेट्रोपोलिसमें एक काव्य संध्या "नवरस" का आयोजन किया गया था  | इस अवसर पर  ब्रिगेड मेट्रोपोलिस  निवासियों ने स्व-रचित और अन्य विख्यात कवियों की रचनाएँ प्रस्तुत कीं | यह playlist इन सभी प्रस्तुतियों का संकलन है | 

https://www.youtube.com/playlist?list=PLEBFK4sp_ZgXXxaXKY4kdGwparhU73Fo5

Navratri 2019 Date: नवरात्रि हो रही है प्रारंभ, मां को प्रसन्न करने के लिए ऐसे करें पूजा

नवरात्रि 2019 का महा पर्व, साल में आने वाली 4 नवरात्रि में से इस नवरात्रि का खास महत्व माना जाता है। इन दिनों लोग देवी मां के नौ स्वरूपों की विधिवत पूजा करते हैं। कई लोग इन 9 दिन उपवास भी रखते हैं। और व्रत के आखिरी दिन कन्या पूजन कर व्रत खोला जाता है। नवरात्रि में मां की विशेष कृपा आप पर बनी रहे इसके लिए आप इन 9 दिनों में अलग-अलग नौ रंगों का चयन कर सकते हैं…

1. प्रतिपदा तिथि, 29 सितंबर 2019 (रविवार) – नवरात्रि के पहले दिन माता शैलपुत्री की पूजा का विधान है। इस दिन पीले रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है।

2. द्वितीया तिथि, 30 सितंबर 2019 (सोमवार)- नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है। इस दिन हरा रंग पहनना शुभ माना जाता है। इसीलिए नवरात्रि के दूसरे दिन हरे रंग के कपड़े पहनें इससे आपको अपने कार्यों में सफलता मिलेगी।

3. तृतीया तिथि, 1 अक्टूबर 2019, (मंगलवार)-  नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा अर्चना की जाती है इस दिन हल्का भूरा रंग पहनना शुभ होता है।

4. चतुर्थी तिथि, 2 अक्टूबर 2019 (बुधवार)- नवरात्रि के चौथे दिन संतरी (Orange) रंग के कपड़े पहनें। कूष्माण्डा (kushmanda) माता की पूजा इस दिन की जाती है।

5. पंचमी तिथि, 3 अक्टूबर 2019 (गुरुवार)- नवरात्रि के पांचवें दिन भक्तों की सारी इच्छाएं पूरी करने वाली स्कंदमाता (Skandmata) की पूजा की जाती है इस दिनव सफेद रंग पहनें। इन्हें मोक्ष के द्वार खोलने वाली माता कहा जाता है।

6. षष्ठी तिथि, 4 अक्टूबर 2019 (शुक्रवार)- नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा होती है। इन माता का मनपसंद रंग है लाल। इस दिन माता की पूजा करते वक्त लाल रंग पहनें।

7. सप्तमी तिथि, 5 अक्टूबर 2019 (शनिवार)- नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्रि (kalratri) की पूजा जाती है। इस दिन नीला रंग पहनना शुभ माना जाता है।

8. अष्टमी तिथि, 6 अक्टूबर 2019, (रविवार)- महागौरी की पूजा करते वक्त गुलाबी रंग पहनना शुभ होता है। इस दिन अष्टमी की पूजा और कन्या भोज करवाते इसी रंग को पहनें।

हरतालिका तीज व्रत कथा  (Hartalika Teej Vrta Katha or Story):

यह व्रत अच्छे पति की कामना से एवं पति की लम्बी उम्र के लिए किया जाता हैं .

शिव जी ने माता पार्वती को विस्तार से इस व्रत का महत्व समझाया – माता गौरा ने सती के बाद हिमालय के घर पार्वती के रूप में जन्म लिया . बचपन से ही पार्वती भगवान शिव को वर के रूप में चाहती थी . जिसके लिए पार्वती जी ने कठोर ताप किया उन्होंने कड़कती ठण्ड में पानी में खड़े रहकर, गर्मी में यज्ञ के सामने बैठकर यज्ञ किया . बारिश में जल में रहकर कठोर तपस्या की . बारह वर्षो तक निराहार पत्तो को खाकर पार्वती जी ने व्रत किया . उनकी इस निष्ठा से प्रभावित होकर भगवान् विष्णु ने हिमालय से पार्वती जी का हाथ विवाह हेतु माँगा . जिससे हिमालय बहुत प्रसन्न हुए . और पार्वती को विवाह की बात बताई . जिससे पार्वती दुखी हो गई . और अपनी व्यथा सखी से कही और जीवन त्याग देने की बात कहने लगी . जिस पर सखी ने कहा यह वक्त ऐसी सोच का नहीं हैं और सखी पार्वती को हर कर वन में ले गई . जहाँ पार्वती ने छिपकर तपस्या की . जहाँ पार्वती को शिव ने आशीवाद दिया और पति रूप में मिलने का वर दिया .

हिमालय ने बहुत खोजा पर पार्वती ना मिली . बहुत वक्त बाद जब पार्वती मिली तब हिमालय ने इस दुःख एवं तपस्या का कारण पूछा तब पार्वती ने अपने दिल की बात पिता से कही . इसके बाद पुत्री हठ के करण पिता हिमालय ने पार्वती का विवाह शिव जी से तय किया .

इस प्रकार हरतालिक व्रत अवम पूजन प्रति वर्ष भादो की शुक्ल तृतीया को किया जाता हैं .

हरतालिका तीज पूजन विधी (Hartalika Teej Pujan Vidhi)

हरतालिका पूजन प्रदोष काल में किया जाता हैं . प्रदोष काल अर्थात दिन रात के मिलने का समय .

हरतालिका पूजन के लिए शिव, पार्वती एवं गणेश जी की प्रतिमा बालू रेत अथवा काली मिट्टी से हाथों से बनाई जाती हैं .

फुलेरा बनाकर उसे सजाया जाता हैं .उसके भीतर रंगोली डालकर उस पर पटा अथवा चौकी रखी जाती हैं . चौकी पर एक सातिया बनाकर उस पर थाल रखते हैं . उस थाल में केले के पत्ते को रखते हैं .

तीनो प्रतिमा को केले के पत्ते पर आसीत किया जाता हैं .

सर्वप्रथम कलश बनाया जाता हैं जिसमे एक लौटा अथवा घड़ा लेते हैं . उसके उपर श्रीफल रखते हैं . अथवा एक दीपक जलाकर रखते हैं . घड़े के मुंह पर लाल नाडा बाँधते हैं . घड़े पर सातिया बनाकर उर पर अक्षत चढ़ाया जाता हैं.

कलश का पूजन किया जाता हैं . सबसे पहले जल चढ़ाते हैं, नाडा बाँधते हैं . कुमकुम, हल्दी चावल चढ़ाते हैं फिर पुष्प चढ़ाते हैं .

कलश के बाद गणेश जी की पूजा की जाती हैं .

उसके बाद शिव जी की पूजा जी जाती हैं . इसकी विधी विस्तार से पढ़े .श्रावण सोमवार महत्व एवम कथा  के बारे में जानने के लिए पढ़े.

उसके बाद माता गौरी की पूजा की जाती हैं . उन्हें सम्पूर्ण श्रृंगार चढ़ाया जाता हैं .

इसके बाद हरतालिका की कथा पढ़ी जाती हैं .

फिर सभी मिलकर आरती की जाती हैं जिसमे सर्प्रथम गणेश जी कि आरती फिर शिव जी की आरती फिर माता गौरी की आरती की जाती हैं .

पूजा के बाद भगवान् की परिक्रमा की जाती हैं .

रात भर जागकर पांच पूजा एवं आरती की जाती हैं .

सुबह आखरी पूजा के बाद माता गौरा को जो सिंदूर चढ़ाया जाता हैं . उस सिंदूर से सुहागन स्त्री सुहाग लेती हैं .

ककड़ी एवं हलवे का भोग लगाया जाता हैं . उसी ककड़ी को खाकर उपवास तोडा जाता हैं .

अंत में सभी सामग्री को एकत्र कर पवित्र नदी एवं कुण्ड में विसर्जित किया जाता हैं .

हरतालिका पूजन सामग्री (Hartalika Teej Puja Samgri List)

क्र    हरतालिका पूजन सामग्री

1    फुलेरा विशेष प्रकार से  फूलों से सजा होता .

2    गीली काली मिट्टी अथवा बालू रेत

3    केले का पत्ता

4    सभी प्रकार के फल एवं फूल पत्ते

5    बैल पत्र, शमी पत्र, धतूरे का फल एवं फूल, अकाँव का फूल, तुलसी, मंजरी .

6    जनैव, नाडा, वस्त्र,

7    माता गौरी के लिए पूरा सुहाग का सामान जिसमे चूड़ी, बिछिया, काजल, बिंदी, कुमकुम, सिंदूर, कंघी, माहौर, मेहँदी आदि मान्यतानुसार एकत्र की जाती हैं . इसके अलावा बाजारों में सुहाग पुड़ा मिलता हैं जिसमे सभी सामग्री होती हैं .

8    घी, तेल, दीपक, कपूर, कुमकुम, सिंदूर, अबीर, चन्दन, श्री फल, कलश .

9    पञ्चअमृत- घी, दही, शक्कर, दूध, शहद .

हरतालिका तीज  कब मनाई जाती है और मुहूर्त क्या है? (Hartalika Teej Date and Muhurat)

हरितालिका तीज भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि के दिन मनाया जाता है. यह आमतौर पर अगस्त – सितम्बर के महीने में ही आती है. इसे गौरी तृतीया व्रत भी कहते है. यह इस वर्ष 1 सितम्बर 2019, दिन रविवार को मनाई जाएगी.

प्रातः काल हरितालिका पूजा मुहूर्त    8:27 से 08:34    7 मिनट

सांय काल हरितालिका पूजा मुहूर्त    06:39 – 8:56    2 घंटे 17 मिनट

हरतालिका तीज नियम (Hartalika Teej Rules) :

हरतालिका व्रत निर्जला किया जाता हैं, अर्थात पूरा दिन एवं रात अगले सूर्योदय तक जल ग्रहण नहीं किया जाता .

हरतालिका व्रत कुवांरी कन्या, सौभाग्यवती महिलाओं द्वारा किया जाता हैं .इसे विधवा महिलायें भी कर सकती हैं .

हरतालिका व्रत का नियम हैं कि इसे एक बार प्रारंभ करने के बाद छोड़ा नहीं जा सकता . इसे प्रति वर्ष पुरे नियमो के साथ किया जाता हैं.

हरतालिका व्रत के दिन रतजगा किया जाता हैं . पूरी रात महिलायें एकत्र होकर नाच गाना एवम भजन करती हैं . नये वस्त्र पहनकर पूरा श्रृंगार करती हैं .

हरतालिका व्रत जिस घर में भी होता हैं . वहाँ इस पूजा का खंडन नहीं किया जा सकता अर्थात इसे एक परम्परा के रूप में प्रति वर्ष किया जाता हैं .

सामान्यतह महिलायें यह हरतालिका पूजन मंदिर में करती हैं .

हरतालिका के व्रत से जुड़ी कई मान्यता हैं, जिनमे इस व्रत के दौरान जो सोती हैं, वो अगले जन्म में अजगर बनती हैं, जो दूध पीती हैं, वो सर्पिनी बनती हैं, जो व्रत नही करती वो विधवा बनती हैं, जो शक्कर खाती हैं मक्खी बनती हैं, जो मांस खाती शेरनी बनती हैं, जो जल पीती हैं वो मछली बनती हैं, जो अन्न खाती हैं वो सुअरी बनती हैं जो फल खाती है वो बकरी बनती हैं . इस प्रकार के कई मत सुनने को मिलते हैं .


जनेऊ क्या है ?

आपने देखा होगा कि बहुत से लोग बाएं कांधे से दाएं बाजू की ओर एक कच्चा धागा लपेटे रहते हैं। इस धागे को जनेऊ कहते हैं। जनेऊ तीन धागों वाला एक सूत्र होता है। यह सूत से बना पवित्र धागा होता है, जिसे व्यक्ति बाएं कंधे के ऊपर तथा दाईं भुजा के नीचे पहनता है। अर्थात इसे गले में इस तरह डाला जाता है कि वह बाएं कंधे के ऊपर रहे।

तीन सूत्र क्यों : जनेऊ में मुख्‍यरूप से तीन धागे होते हैं। प्रथम यह तीन सूत्र त्रिमूर्ति ब्रह्मा, विष्णु और महेश के प्रतीक होते हैं। द्वितीय यह तीन सूत्र देवऋण, पितृऋण और ऋषिऋण के प्रतीक होते हैं और तृतीय यह सत्व, रज और तम का प्रतीक है। चतुर्थ यह गायत्री मंत्र के तीन चरणों का प्रतीक है। पंचम यह तीन आश्रमों का प्रतीक है। संन्यास आश्रम में यज्ञोपवीत को उतार दिया जाता है।  

नौ तार : यज्ञोपवीत के एक-एक तार में तीन-तीन तार होते हैं। इस तरह कुल तारों की संख्‍या नौ होती है। एक मुख, दो नासिका, दो आंख, दो कान, मल और मूत्र के दो द्वारा मिलाकर कुल नौ होते हैं। हम मुख से अच्छा बोले और खाएं, आंखों से अच्छा देंखे और कानों से अच्छा सुने। 

पांच गांठ : यज्ञोपवीत में पांच गांठ लगाई जाती है जो ब्रह्म, धर्म, अर्ध, काम और मोक्ष का प्रतीक है। यह पांच यज्ञों, पांच ज्ञानेद्रियों और पंच कर्मों का भी प्रतीक भी है। 

जनेऊ की लंबाई : यज्ञोपवीत की लंबाई 96 अंगुल होती है। इसका अभिप्राय यह है कि जनेऊ धारण करने वाले को 64 कलाओं और 32 विद्याओं को सीखने का प्रयास करना चाहिए। चार वेद, चार उपवेद, छह अंग, छह दर्शन, तीन सूत्रग्रंथ, नौ अरण्यक मिलाकर कुल 32 विद्याएं होती है। 64 कलाओं में जैसे- वास्तु निर्माण, व्यंजन कला, चित्रकारी, साहित्य कला, दस्तकारी, भाषा, यंत्र निर्माण, सिलाई, कढ़ाई, बुनाई, दस्तकारी, आभूषण निर्माण, कृषि ज्ञान आदि। 

जनेऊ धारण वस्त्र : जनेऊ धारण करते वक्त बालक के हाथ में एक दंड होता है। वह बगैर सिला एक ही वस्त्र पहनता है। गले में पीले रंग का दुपट्टा होता है। मुंडन करके उसके शिखा रखी जाती है। पैर में खड़ाऊ होती है। मेखला और कोपीन पहनी जाती है। मेखला, कोपीन, दंड : मेखला और कोपीन संयुक्त रूप से दी जाती है। कमर में बांधने योग्य नाड़े जैसे सूत्र को मेखला कहते हैं। मेखला को मुंज और करधनी भी कहते हैं। कपड़े की सिली हुई सूत की डोरी, कलावे के लम्बे टुकड़े से मेखला बनती है। कोपीन लगभग 4 इंच चौड़ी डेढ़ फुट लम्बी लंगोटी होती है। इसे मेखला के साथ टांक कर भी रखा जा सकता है। दंड के लिए लाठी या ब्रह्म दंड जैसा रोल भी रखा जा सकता है। यज्ञोपवीत को पीले रंग में रंगकर रखा जाता है। 

जनेऊ धारण : बगैर सिले वस्त्र पहनकर, हाथ में एक दंड लेकर, कोपीन और पीला दुपट्टा पहनकर विधि-विधान से जनेऊ धारण की जाती है। जनेऊ धारण करने के लिए एक यज्ञ होता है, जिसमें जनेऊ धारण करने वाला लड़का अपने संपूर्ण परिवार के साथ भाग लेता है। यज्ञ द्वारा संस्कार किए गए विशिष्ट सूत्र को विशेष विधि से ग्रन्थित करके बनाया जाता है। तीन सूत्रों वाले इस यज्ञोपवीत को गुरु दीक्षा के बाद हमेशा धारण किया जाता है। अपवित्र होने पर यज्ञोपवीत बदल लिया जाता है। 

गायत्री मंत्र : यज्ञोपवीत गायत्री मंत्र से शुरू होता है। गायत्री- उपवीत का सम्मिलन ही द्विजत्व है। यज्ञोपवीत में तीन तार हैं, गायत्री में तीन चरण हैं। ‘तत्सवितुर्वरेण्यं’ प्रथम चरण, ‘भर्गोदेवस्य धीमहि’ द्वितीय चरण, ‘धियो यो न: प्रचोदयात्’ तृतीय चरण है। गायत्री महामंत्र की प्रतिमा- यज्ञोपवीत, जिसमें 9 शब्द, तीन चरण, सहित तीन व्याहृतियां समाहित हैं। 

यज्ञोपवीत धारण करने का मन्त्र है-
यज्ञोपवीतं परमं पवित्रं प्रजापतेर्यत्सहजं पुरस्तात् ।
आयुष्यमग्रं प्रतिमुञ्च शुभ्रं यज्ञोपवीतं बलमस्तु तेजः।। 

ऐसे करते हैं संस्कार : यज्ञोपवित संस्कार प्रारम्भ करने के पूर्व बालक का मुंडन करवाया जाता है। उपनयन संस्कार के मुहूर्त के दिन लड़के को स्नान करवाकर उसके सिर और शरीर पर चंदन केसर का लेप करते हैं और जनेऊ पहनाकर ब्रह्मचारी बनाते हैं। फिर होम करते हैं। फिर विधिपूर्वक गणेशादि देवताओं का पूजन, यज्ञवेदी एवं बालक को अधोवस्त्र के साथ माला पहनाकर बैठाया जाता है। फिर दस बार गायत्री मंत्र से अभिमंत्रित करके देवताओं के आह्‍वान के साथ उससे शास्त्र शिक्षा और व्रतों के पालन का वचन लिया जाता है। 

फिर उसकी उम्र के बच्चों के साथ बैठाकर चूरमा खिलाते हैं फिर स्नान कराकर उस वक्त गुरु, पिता या बड़ा भाई गायत्री मंत्र सुनाकर कहता है कि आज से तू अब ब्राह्मण हुआ अर्थात ब्रह्म (सिर्फ ईश्वर को मानने वाला) को माने वाला हुआ। 

इसके बाद मृगचर्म ओढ़कर मुंज (मेखला) का कंदोरा बांधते हैं और एक दंड हाथ में दे देते हैं। तत्पश्चात्‌ वह बालक उपस्थित लोगों से भीक्षा मांगता है। शाम को खाना खाने के पश्चात्‌ दंड को साथ कंधे पर रखकर घर से भागता है और कहता है कि मैं पढ़ने के लिए काशी जाता हूं। बाद में कुछ लोग शादी का लालच देकर पकड़ लाते हैं। तत्पश्चात वह लड़का ब्राह्मण मान लिया जाता है।  

जनेऊ संस्कार का समय : माघ से लेकर छ: मास उपनयन के लिए उपयुक्त हैं। प्रथम, चौथी, सातवीं, आठवीं, नवीं, तेरहवीं, चौदहवीं, पूर्णमासी एवं अमावस की तिथियां बहुधा छोड़ दी जाती हैं। सप्ताह में बुध, बृहस्पति एवं शुक्र सर्वोत्तम दिन हैं, रविवार मध्यम तथा सोमवार बहुत कम योग्य है। किन्तु मंगल एवं शनिवार निषिद्ध माने जाते हैं। 

मुहूर्त : नक्षत्रों में हस्त, चित्रा, स्वाति, पुष्य, घनिष्ठा, अश्विनी, मृगशिरा, पुनर्वसु, श्रवण एवं रवती अच्छे माने जाते हैं। एक नियम यह है कि भरणी, कृत्तिका, मघा, विशाखा, ज्येष्ठा, शततारका को छोड़कर सभी अन्य नक्षत्र सबके लिए अच्छे हैं। 

पुनश्च: : पूर्वाषाढ, अश्विनी, हस्त, चित्रा, स्वाति, श्रवण, धनिष्ठा, शतभिषा, ज्येष्ठा, पूर्वाफाल्गुनी, मृगशिरा, पुष्य, रेवती और तीनों उत्तरा नक्षत्र द्वितीया, तृतीया, पंचमी, दसमी, एकादसी, तथा द्वादसी तिथियां, रवि, शुक्र, गुरु और सोमवार दिन, शुक्ल पक्ष, सिंह, धनु, वृष, कन्या और मिथुन राशियां उत्तरायण में सूर्य के समय में उपनयन यानी यज्ञोपवीत यानी जनेऊ संस्कार शुभ होता है।।। जय सियाराम 
My Discussions
  •  ·  14
Let's thoughts flow :)
  •  ·  79
From Rohit,Presenting our very own holi folk songs from the book - "Rang Jhar Barse Ri" , sung by my…
Info
Gender:
Man
Age:
45
Full Name:
Piyush Chaturvedi
Friends count:
Followers count:
Membership
Moderator
My Albums
My Posts