·   · All Posts by {1} ({2})
  •  · 11 friends

हरतालिका तीज व्रत कथा

हरतालिका तीज व्रत कथा  (Hartalika Teej Vrta Katha or Story):

यह व्रत अच्छे पति की कामना से एवं पति की लम्बी उम्र के लिए किया जाता हैं .

शिव जी ने माता पार्वती को विस्तार से इस व्रत का महत्व समझाया – माता गौरा ने सती के बाद हिमालय के घर पार्वती के रूप में जन्म लिया . बचपन से ही पार्वती भगवान शिव को वर के रूप में चाहती थी . जिसके लिए पार्वती जी ने कठोर ताप किया उन्होंने कड़कती ठण्ड में पानी में खड़े रहकर, गर्मी में यज्ञ के सामने बैठकर यज्ञ किया . बारिश में जल में रहकर कठोर तपस्या की . बारह वर्षो तक निराहार पत्तो को खाकर पार्वती जी ने व्रत किया . उनकी इस निष्ठा से प्रभावित होकर भगवान् विष्णु ने हिमालय से पार्वती जी का हाथ विवाह हेतु माँगा . जिससे हिमालय बहुत प्रसन्न हुए . और पार्वती को विवाह की बात बताई . जिससे पार्वती दुखी हो गई . और अपनी व्यथा सखी से कही और जीवन त्याग देने की बात कहने लगी . जिस पर सखी ने कहा यह वक्त ऐसी सोच का नहीं हैं और सखी पार्वती को हर कर वन में ले गई . जहाँ पार्वती ने छिपकर तपस्या की . जहाँ पार्वती को शिव ने आशीवाद दिया और पति रूप में मिलने का वर दिया .

हिमालय ने बहुत खोजा पर पार्वती ना मिली . बहुत वक्त बाद जब पार्वती मिली तब हिमालय ने इस दुःख एवं तपस्या का कारण पूछा तब पार्वती ने अपने दिल की बात पिता से कही . इसके बाद पुत्री हठ के करण पिता हिमालय ने पार्वती का विवाह शिव जी से तय किया .

इस प्रकार हरतालिक व्रत अवम पूजन प्रति वर्ष भादो की शुक्ल तृतीया को किया जाता हैं .

  • 105
Comments (0)
Info
Category:
Created:
Updated:
Featured Posts
Bhai Dooj

Bhai Dooj

Bhai Dooj or Bhaiya Dooj is a Hindu festival that is celebrated by all women by praying for the long life of their brothers and in return receive gifts. The festival is celebrated on the very last day of the 5 days long Diwali festival which is the second day of the bright fortnight or Shukla Paksha in the Hindu month of Kartik.Legend has it that as per the Hindu mythology, after defeating the evil demon Narakasura, Lord Krishna paid a visit to his sister Subhadra who gave him a warm welcome with sweets and flowers. She applied tilaka on Krishna's forehead with affection. It is believed by some that this is the origin of the festival. However, Legend has it that on this particular day, Yama,
Goverdhan Puja

Goverdhan Puja

About Govardhan PujaCelebrated on the fourth day of the Diwali celebrations, Govardhan Puja is one of the very important days in the Diwali celebrations. It is also known as 'Padwa' or 'Varshapratiprada' in some parts of the country. This day is mainly celebrated in the states of Punjab, Haryana, Uttar Pradesh and Bihar.History of Govardhan PujaAccording to the Hindu epic and legend, the "Vishnu Puraan", the people of Gokul, Mathura used to worship Lord Indra for providing them with rains. They believed that it was him who blessed them with the rains for their welfare.But Lord Krishna explained to them that it was mount Govardhan (a small hillock situated at Braj, near Mathura) who caused th
Happy Diwali Wishes

Happy Diwali Wishes

Wishing you all a very Happy Diwali !!!!
धनतेरस क्यों मनाते हैं?

धनतेरस क्यों मनाते हैं?

कार्तिक माह कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धन्वंतरि देवता का जन्म हुआ था| इनका जन्म समुन्द्र मंथन से हुआ था| जब इनका जन्म हुआ तो यह अमृत कलश लेकर आए थे| जिसके लिए इतना भव्य समुद्र मंथन किया गया| इसी समुद्र मंथन से माँ लक्ष्मी जी का भी जन्म हुआ था| इसी धन्वंतरि के कारण इसका नाम धनतेरस पड़ा| धन्वंतरि देवो के वैद्य है इस कारण इसे इस दिन को आयुर्वेद दिवस भी कहा जाता है|धनतेरस का मतलब होता है धन| कई लोग धनतेरस (Dhanteras) के दिन ही माँ लक्ष्मी कि पूजा करते है| जो लोग व्यपारी वर्ग के होते है उनके लिए यह दिन बहुत ही खास होता है| वह लोग घर में सोने चांदी के सिक्के घर लाते है इनको घर लाना बहुत शुभ माना जाता है| धनतेरस दिवाली के दो दिन पहले मनाया जाता है| इस दिन का बहुत महत्व माना जाता है| धन्वंतरि हाथ में
Significance and Importance of 5 Days of Diwali

Significance and Importance of 5 Days of Diwali

Diwali celebrations go on for five days and each day has its significance.Dhanteras :Diwali begins with the first day known as ‘Dhanteras’ or the worship of wealth. Goddess Lakshmi is worshipped on this day and there is a custom to purchase something precious. People clean and decorate their homes.Naraka Chaturdashi or Choti Diwali :The second day is Naraka Chaturdashi or Choti Diwali. People wake up early and apply aromatic oils on them before taking a bath. This is said to remove all sins and impurities. They wear new clothes, offer Puja and enjoy by lighting diyas and bursting few crackers.Lakshmi Puja :The third day is the main Diwali festival. Lakshmi Puja is performed on this day. Godd
Another Popular Legend of Dussehra

Another Popular Legend of Dussehra

There is another popular legend which attributes the celebration of Dussehra to mark the victory of Goddess Durga over the Demon Mahishasura.There was a fierce battle between Goddess Durga and powerful Demon Mahishasura. The battle lasted for ten days, and on the tenth day The Goddess killed Mahishasura and thus defeated the evil forces.All the legends associated with Dussehra bring out one astonishing fact. They inspire us to side with the good and overpower the evil forces.
Why is Dussehra Celebrated?

Why is Dussehra Celebrated?

Dussehra or Vijayadashami is “The Day of Victory” that celebrates the victory of good over evil. It is the day when good vanquished evil.Dussehra is also about the feminine goddess or the female divinity. Vijayadashami celebrates the Feminine Divinity which is the “Cosmic Energy” that protects and sustains life on the planet Earth.Vijayadashami brings success and victory in our life. It is a cultural festival of great importance and significance for all Hindus.Dussehra is the day that follows the nine days of Navratri.After nine days of Navratri, the tenth and final day is Dussehra or Vijayadashami.In fact, the nine days of Navratri represent the three fundamental qualities of human nature q
Hindu Calendar

Hindu Calendar

Hindu Festivals CalendarHindu calendar is also called as "Panchang" ("Panchanga" or "Panchangam") or "Panjika". it is the astrological calendar used by practicing Hindus. Many different variations of hindu calendar used in different parts of India. Some popular calendars are Kalnirnay, Biraja Panji, Bisuddhasiddhanta Panjika etc.Two popular types of astrological calculation methods are followed for calculating hindu calendar dates:- Sūrya Siddhāntā (SS, Theory of the Sun) - Dṛk Siddhāntā (Empirical Theory)Hindu calendar is based on astrological calculations. It is a lunar calendar which is based on the positions of moon and sun. Five essentials elements of the hindu calendars are Tithi (Thit
Identify the Chaturvedvi and find how Hindi divas was celebrated

Identify the Chaturvedvi and find how Hindi divas was celebrated

आपको ज्ञात होगा कि 8 -सितम्बर पर हिंदी दिवस 2019 के उपलक्ष्य में ब्रिगेड मेट्रोपोलिसमें एक काव्य संध्या "नवरस" का आयोजन किया गया था  | इस अवसर पर  ब्रिगेड मेट्रोपोलिस  निवासियों ने स्व-रचित और अन्य विख्यात कवियों की रचनाएँ प्रस्तुत कीं | यह playlist इन सभी प्रस्तुतियों का संकलन है | https://www.youtube.com/playlist?list=PLEBFK4sp_ZgXXxaXKY4kdGwparhU73Fo5
Navratri 2019 Date

Navratri 2019 Date

Navratri 2019 Date: नवरात्रि हो रही है प्रारंभ, मां को प्रसन्न करने के लिए ऐसे करें पूजानवरात्रि 2019 का महा पर्व, साल में आने वाली 4 नवरात्रि में से इस नवरात्रि का खास महत्व माना जाता है। इन दिनों लोग देवी मां के नौ स्वरूपों की विधिवत पूजा करते हैं। कई लोग इन 9 दिन उपवास भी रखते हैं। और व्रत के आखिरी दिन कन्या पूजन कर व्रत खोला जाता है। नवरात्रि में मां की विशेष कृपा आप पर बनी रहे इसके लिए आप इन 9 दिनों में अलग-अलग नौ रंगों का चयन कर सकते हैं…1. प्रतिपदा तिथि, 29 सितंबर 2019 (रविवार) – नवरात्रि के पहले दिन माता शैलपुत्री की पूजा का विधान है। इस दिन पीले रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है।2. द्वितीया तिथि, 30 सितंबर 2019 (सोमवार)- नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है। इस द
हरतालिका तीज व्रत कथा

हरतालिका तीज व्रत कथा

हरतालिका तीज व्रत कथा  (Hartalika Teej Vrta Katha or Story):यह व्रत अच्छे पति की कामना से एवं पति की लम्बी उम्र के लिए किया जाता हैं .शिव जी ने माता पार्वती को विस्तार से इस व्रत का महत्व समझाया – माता गौरा ने सती के बाद हिमालय के घर पार्वती के रूप में जन्म लिया . बचपन से ही पार्वती भगवान शिव को वर के रूप में चाहती थी . जिसके लिए पार्वती जी ने कठोर ताप किया उन्होंने कड़कती ठण्ड में पानी में खड़े रहकर, गर्मी में यज्ञ के सामने बैठकर यज्ञ किया . बारिश में जल में रहकर कठोर तपस्या की . बारह वर्षो तक निराहार पत्तो को खाकर पार्वती जी ने व्रत किया . उनकी इस निष्ठा से प्रभावित होकर भगवान् विष्णु ने हिमालय से पार्वती जी का हाथ विवाह हेतु माँगा . जिससे हिमालय बहुत प्रसन्न हुए . और पार्वती को विवाह की बात
हरतालिका तीज पूजन विधी

हरतालिका तीज पूजन विधी

हरतालिका तीज पूजन विधी (Hartalika Teej Pujan Vidhi)हरतालिका पूजन प्रदोष काल में किया जाता हैं . प्रदोष काल अर्थात दिन रात के मिलने का समय .हरतालिका पूजन के लिए शिव, पार्वती एवं गणेश जी की प्रतिमा बालू रेत अथवा काली मिट्टी से हाथों से बनाई जाती हैं .फुलेरा बनाकर उसे सजाया जाता हैं .उसके भीतर रंगोली डालकर उस पर पटा अथवा चौकी रखी जाती हैं . चौकी पर एक सातिया बनाकर उस पर थाल रखते हैं . उस थाल में केले के पत्ते को रखते हैं .तीनो प्रतिमा को केले के पत्ते पर आसीत किया जाता हैं .सर्वप्रथम कलश बनाया जाता हैं जिसमे एक लौटा अथवा घड़ा लेते हैं . उसके उपर श्रीफल रखते हैं . अथवा एक दीपक जलाकर रखते हैं . घड़े के मुंह पर लाल नाडा बाँधते हैं . घड़े पर सातिया बनाकर उर पर अक्षत चढ़ाया जाता हैं.कलश का पूजन किया जात